Peptech Time

  • Download App from
    Follow us on
  • भोपाल में बढ़ रहा है 20 लीटर तक दूध देने वाली गायों का कुनबा

    भोपाल। राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम द्वारा वर्ष 2014-15 में भोपाल के केरवा स्थित मदर बुल फार्म पर आरंभ किये गये भ्रूण प्रत्यारोपण के बहुत अच्छे परिणाम मिल रहे हैं। सर्वोत्तम गिर नस्ल की गाय और सांड से आरंभ किये गये प्रोजेक्ट से आज फार्म पर सेरोगेसी से जन्मी 298गाय मौजूद हैं। देश की सर्वाधिक दूध देने वाली गिर, थारपरकर और साहीवाल नस्ल की इन गायों से उच्च गुणवत्ता का दुग्ध उत्पादन बढ़ने के साथ ही गायों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। गिर और साहीवाल नस्ल की गाय 15 से 20 लीटर और थारपरकरनस्ल की गाय 10 से 20 लीटर प्रतिदिन दूध दे रही हैं।

    प्रबंध संचालक मध्यप्रदेश राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम डॉ. एच.बी.एस. भदौरिया ने बताया कि वर्तमान में बुल मदर फार्म पर 386 देशी गाय हैं। उच्च नस्ल वाली गाय के भ्रूण प्रत्यारोपण के लिये अनुपयोगी देशी गायों की कोख का प्रयोग किया जा रहा है। मात्र 6 साल पहले गिर नस्ल के जोड़े से 15 गायों के साथ शुरू किये गये प्रयोग में वर्ष 2015-16 में 7 बछड़े और 8 बछियों के जन्म के साथ सफलता का क्रम आज भी जारी है। बमुश्किल 2 लीटर तक दूध देने वाली गाय में प्रत्यारोपित भ्रूण से जन्मी बछिया आज 15 से 20 लीटर दूध प्रतिदिन दे रही है। एक गाय अपने जीवनकाल में केवल 7 से 8 बार गर्भ धारण करती है। इसके विपरीत सेरोगेसी तकनीक से सर्वोत्तम नस्ल की गाय से एक साल में ही 4-5 भ्रूण तैयार किये जा रहे हैं। इससे गुणवत्तापूर्ण अधिक दूध देने वाली देशी गायों की संख्या निरंतर बढ़ रही है और अनुपयोगी गायों की कोख का भी सदुपयोग हो रहा है। यह सफलता निकट भविष्य में दुग्ध उत्पादन में देश में तीसरे स्थान पर पहुँच चुके मध्यप्रदेश को सर्वोच्च शिखर पर पहुँचाने में महत्वपूर्ण योगदान देगी।

    SSLC 20x10 Flex 01 Peice 2 Peptech Time

  • जन संपर्क न्यूज़

    Stay Connected

  • Related Posts

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Add New Playlist