Peptech Time

  • Download App from
    Follow us on
  • महंगाई कम करने और रोजगार देने में विफल रही भाजपा सरकार: प्रियंका गांधी

    महंगाई कम करने और रोजगार देने में विफल रही भाजपा सरकार: प्रियंका गांधी

    बुन्देलखण्ड के दमोह में प्रियंका ने लगाए भाजपा पर आरोप

    दमोह

    आचार संहिता के बाद बुंदेलखंड में कांग्रेस की बड़ी सभा शनिवार को हो रही है। इसमें कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी पहली बार दमोह आई हैं। उन्होंने दमोह जिले की चार विधानसभा सीटों के लिए आम सभा को संबोधित किया। बुंदेलखंड में दमोह जिले की चार विधानसभा सीटें कांग्रेस के लिए काफी अहम है। इसके लिए प्रियंका गांधी चुनाव प्रचार करने के लिए शनिवार को दमोह के दौरे पर हैं। दमोह सीट से कांग्रेस ने अजय टंडन को टिकट दिया है, वहीं पथरिया से राव ब्रजेंद्र सिंह, हटा से प्रदीप खटीक और जबेरा से प्रताप सिंह को प्रत्याशी बनाया गया है।
    प्रियंका गांधी ने कहा कि जो काम की बात नहीं कर सकते वो धर्म की बात उठाएंगे। आपके जज्बात धर्म से जुड़ जाएंगे। यह सिलसिला बंद करो। इससे रईस उद्योगपतियों को कोई फर्क नहीं पड़ता। उनको तो कभी भी रोजगार मिल जाएंगे। नुकसान आपका हो रहा है, इसलिए कि आप उन्हें जवाबदेह नहीं बनाया। मैं अपने पिता जी के साथ अमेठी गई थी तो गांव वालों ने उन्हें डांट दिया था कि राजू भैया आपने कहा था सड़क बनाने का तो क्यों नहीं बनाया। वो जवाबदेह थे इसके लिए तो लोगों ने उनसे बोला।
    प्रियंका ने कहा कि यदि आप राजनीति को ऐसे ही चलने देते हैं तो आगे भी चलने दीजिए। इसके बाद किसी को इलाज कराना हो तो लोन लेकर इलाज करवाना। मैं यही कहने आई हूं कि 18 साल हो गए हैं, आपके सामने आगे 5 साल हैं। रोजगार चाहिए, बच्चों को अच्छी शिक्षा देना है, अच्छा स्वास्थ्य देना है। यह अहम 5 साल हैं। यह आपके बच्चों का भविष्य बनाने वाला चुनाव है। कांग्रेस नेताओं ने कई गारंटी का वादा किया है, आप पता तो कीजिए कि यह लागू है या नहीं। कर्नाटक, छत्तीसगढ़, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश में ओल्ड पेंशन स्कीम लागू है। मध्यप्रदेश में यह लाडली स्कीम लाए हैं तो 18 साल पहले क्यों नहीं लाए। यहां हर रोज 17 बलात्कार हो रहे हैं। हमें सुरक्षित नहीं रखें, पढ़ाओगे नहीं, फिर चुनाव के पहले कह देंगे कि यह 1500 रुपए रख लो और हमें वोट दो।
    प्रियंका ने कहा कि आपको बताया जा रहा है कि महिलाओं को आरक्षण दे दिया। बताया जा रहा है कि सुनहरा दौर है। बातें कुछ और हैं और इवेंट कुछ और। यह सुनहरा दौर आपके घर के दरवाजे तक पहुंचा क्या। आपके घर स्वास्थ्य, पानी, बिजली नहीं पहुंची, क्यों नहीं पहुंची। मुश्किलों से भरा जीवन है। फिर भी नेता आते हैं आपके सामने क्या बाते करते हैं, चुनाव के पहले सारी घोषणाएं और वो घोषणाएं पूरी हुई है या नहीं? उन्होंने इससे पहले क्या कहा था कि लाखों रोजगार देंगे। जवाबदेय तो बनाइए। कौन बनाएगा इनको जवाबदेय। आपने एक सिलसिला शुरू करवा दिया है, जिसका खामियाजा आप को ही भुगतना पड़ता है। राजनीति में धर्म चलाएंगे, जाति की बात कर लो औ नैया पार हो जाएगी। काम करने की कोई जरूरत नहीं।
    जो देश में सरकार चल रही है वो बड़े बड़े उद्योगपतियों के लिए चल रही है, उसमें गरीब किसानों के लिए कुछ नहीं है। अब ओबीसी एससी एसटी की बात हम करते हैं तो हम कहते हैं कि जातिगत जनगणना हम करवाएंगे। इससे पता चल जाएगा कि किस वर्ग के कितने लोग हैं। सरकार जानेगी ही नहीं तो वो न्याय कैसे करेगी। हम ओबीसी वर्ग के लिए कोई योजना बनाने की बात करते हैं तो हमें यह नहीं पता कि कितने लोग हैं तो न्याय कैसे करेंगे। बिहार में जनगणना की है तो आधे से ज्यादा एससी और ओबीसी के निकले।
    प्रियंका ने कहा कि आज हर चीज पर जीएसटी, यूनिफार्म, किताबों पर जीएसटी, इलाज कराना है तो वहां भी, मकान बनाना है, सीमेंट पर जीएसटी, बालू भी महंगी हो गई है। हर सरकारी कर्मचारी और अधिकारियों की मांग है कि हमारी पुरानी पेंशन दे दो। जिस तरीके से आपने नौकरी की, देश सेवा की, तो यह आपका हक है। आपने मांग की कि पुरानी पेंशन चाहिए। तो आपको जवाब मिलता है कि हमारे पास पैसे नहीं है। तो आपके जो बड़े बड़े उद्योगपति हैं, जिनके कर्ज आपने माफ किए। तो वो पैसा कहा से आता है। आप हजार करोड़ रुपए के हवाई जहाज में घूम रहे है। नया संसद भवन बना दिया, उसमें हजार करोड़ रुपए खर्च कर दिए। फिर आप कहते हैं कि आप किसानों का कर्ज माफ करने के पैसे नहीं है। मैं आपसे पूछना चाहती हूं कि कितने सालों से भाजपा की सरकार है, तो क्या आपकी तरक्की हुई है, रोजगार मिले हैं क्या, महंगाई घटी है क्या।
    पहले बीएचईएल जैसे पीएसयू थे जिनमें काफी रोजगार मिलते थे। आज स्थिति क्या है, जितने पीएसयू थे, देश की बड़ी बड़ी संपत्ति थी, वो बड़े बड़े उद्योगपति मित्रों को सौंप दी है, तो रोजगार कैसे मिलेंगे। मैंने यहां रास्ते में छोटी छोटी दुकानें हैं, आपने उन छोटे उद्योगपतियों की कमर तोड़ रखी है। पहले नोटबंदी ले आए फिर कोरोना आ गया। बाकी राज्यों में राहत मिली, लेकिन यहां नहीं दी। इसके बाद जीएसटी लाए, इससे और मुश्किलें बढ़ गई। तो छोटे उद्योग बंद होने की कगार पर आ गए और बड़े उद्योग और बढ़े होते चले गए। उनकी संपत्ति बढऩे लगे। खेती और ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार आते थे, मनरेगा में रोजगार दिया जाता था। हर जगह इन्होंने आप लोगों की कमर तोड़ दी।
    प्रियंका ने कहा कि प्रदेश में 45 सालों में सबसे ज्यादा बेरोजगारी है। मध्यप्रदेश की सरकार ने अब तक पिछली तीन सालों में सिर्फ 21 रोजगार दे रही है। कितनी सरकारी नौकरी खाली पड़ी हैं, कितने पद खाली हैं। एमपी में स्वास्थ्य के पद खाली हैं। नौजवान हैं, जो पढ़ें लिखे हैं, जिनके माता पिता ने बचत करके पढ़ाया लिखाया है, भर्ती के टेस्ट भी दिए हैं, लेकिन भर्ती नहीं होती है। मैं कई लोगों से मिली जिन्होंने 6 बार परीक्षा दी, लेकिन नियुक्ति नहीं हुई, क्योंकि घोटाले हो रहे हैं।
    कमलनाथ ने दमोह जिले के मतदाताओं से कांग्रेस की सरकार बनाने की अपील की। कमलनाथ ने कहा कि यह चुनाव मध्यप्रदेश के भविष्य का है। हमारी सरकार को छल से गिरा दिया गया था। मैं भी सौदा कर सकता था, लेकिन नहीं किया। अब चुनाव मध्यप्रदेश के भविष्य का है।

  • Shri Sai Lotus City, Satna (M.P.)

    Peptech Town, Chhatarpur (M.P.)​

  • Related Posts

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Add New Playlist