Peptech Time

  • Download App from
    Follow us on
  • गोड़वाना गणतंत्र पार्टी के उपद्रव में दर्जन भर पुलिस कर्मियों के साथ 15 लोग घायल

    गोड़वाना, गोड़वाना गणतंत्र पार्टी के उपद्रव में दर्जन भर पुलिस कर्मियों के साथ 15 लोग घायल

    उमरिया(तपस गुप्ता)। शांत क्षेत्र उमरिया जिले में मंगलवार को जो हुआ वह बेहद ही चौकाने वाला था। जिले के इतिहास का पहला आंदोलन था जो हिंसक हुआ और शहर में दहशत फैला दी, गोड़वाना गणतंत्र पार्टी के इस उग्र हिंसक आंदोलन में दर्जनों पुलिसकर्मियों सहित 15 लोग आहत हुए हैं। तस्वीरें बोलती हैं कि किस तरीके से भोले भाले कहे जाने वाले आदिवासी, नेताओ के उकसावे में हिंसक हो उठे और पुलिसकर्मियों की जान लेने पर उतारू हो गए। गोड़वाना के इस उपद्रव में एडिशनल एसपी प्रतिपाल सिंह, थाना प्रभारी अरुणा द्विवेदी, मंजू शर्मा, अमर सिंह सहित दर्जन भर पुलिसकर्मी आहत हैं। गोड़वाना नेताओं की मंशा का अंदाज आंदोलन के दौरान मीडिया को दिए बयान से समझी जा सकती है कि वो क्या करने आए थे ।
    दरअसल गोड़वाना गणतंत्र पार्टी का यह आंदोलन जिले के मानपुर विधानसभा क्षेत्र की विधायिका व प्रदेश सरकार के जनजातीय कार्य विभाग की कैबिनेट मंत्री मीना सिंह के खिलाफ था। गोड़वाना नेता मंत्री पर आदिवासी विकास विभाग की योजनाओ में भारी भरकम कमीशन लेकर घोटाला करने की जांच को लेकर चरणबद्ध आंदोलन चला रहे थे, उनके आंदोलन का यह तीसरा चरण था जिसमे वो शहर को बंद रखने का आह्वान कर हजारों की तादात में कलेक्ट्रेट पहुंचे थे, जिसे प्रशासन ने समझने में चूक की और भीड़ हिंसक हो गई, प्रशासन के नुमाइंदे अब दंगाइयों पर सख्त कार्यवाही का हवाला दे रहे ह ।
    गोड़वाना के आंदोलन की शुरुआत ही उग्र थी और बंद की अपील करने की बजाय भीड़ सीधे कलेक्ट्रेट चौराहा पहुंच गई जहां आमसभा करने लगे जिससे शहर के सभी मुख्य मार्ग बंद हो गए। इसी दौरान भीड़ में शामिल लोगों ने दो तीन पुलिसकर्मियों के साथ अभद्रता भी की जिसे पुलिस ने कानून व्यवस्था बिगडऩे के डर से सहन कर लिया लेकिन उग्र भीड़ इतने से नही मानी और रैली के रूप में शहर जाने और जबरन बाजार बंद कराने व तोडफ़ोड़ करने का खुलेआम एलान कर दिया, जिससे बात बिगड़ी और भीड़ ने हिंसक रूप ले लिया। हिंसा के दो घंटे बेहद डरावने थे जिससे पुलिस तो पुलिस मीडियाकर्मियों के साथ वहां मौजूद आमजन मानस दुबक कर अपनी जान बचाने में लगा रहा।

  • जन संपर्क न्यूज़

    गैस राहत चिकित्सालयों में प्रतिनियुक्ति पर ली जायेंगी चिकित्सा अधिकारियों की सेवाएँ

    गैस राहत चिकित्सालयों के लिये विशेषज्ञों, कंसलटेंट और चिकित्सा अधिकारियों की सेवाएँ प्रतिनियुक्ति पर ली जायेंगी। संचालक गैस राहत एवं…

    Stay Connected

  • Related Posts

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Add New Playlist