Peptech Time

  • Download App from
    Follow us on
  • पर्यटन नगरी के ‘देशज समारोह’ में हुई बुन्देली गायन की प्रस्तुति, जानिए क्या है देशज समारोह?

    पर्यटन नगरी के 'देशज समारोह' में हुई बुन्देली गायन की प्रस्तुति, जानिए क्या है देशज समारोह?

    छतरपुर (खजुराहो), तुलसीदास सोनी। मध्यप्रदेश शासन संस्कृति विभाग द्वारा स्थापित ‘आदिवर्त‘ जनजातीय लोककला राज्य संग्रहालय- खजुराहो में प्रत्येक रविवार को नृत्य, नाट्य, गायन एवं वादन पर केन्द्रित समारोह ‘देशज‘ का आयोजन किया जाता है। गतिविधि में रविवार 14 जनवरी, 2024 को सायं 05.30 से घनश्याम कुशवाहा द्वारा बुन्देली लोकगीत से की गई।

    कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्जवलन एवं कलाकारों के स्वागत से की गई। दीप प्रज्जवलन एवं कलाकारों का स्वागत आचार्य जैराम त्रिवेदी द्वारा किया गया। गतिविधि का संचालन डॉ मुराद अली द्वारा किया गया। प्रस्तुति के दौरान कलाकारों ने लमटेरा, दादरा, खयाल, गारी, चौकडिया गीत की प्रस्तुति दी।

    मंच पर प्रस्तुति के दौरान घनश्याम कुशवाहा, गिरजा विष्वकर्मा, करन साहू, मुन्ना कुशवाहा, संतोष सेन, दीपक करपेन्टर, भग्गू चन्द्र कलाकारों ने संगत की। इसीक्रम में अगली प्रस्तुति दुर्जनलाल पटेल छतरपुर एवं उनके साथियों द्वारा बुन्देली राई नृत्य की प्रस्तुति दी गई। बुन्देलखण्ड अंचल की अपनी जातीय परम्परा मूलतः शौर्य और श्रृंगार परक है।

    यह अकारण नहीं है कि बुन्देलखण्ड के प्रख्यात लोकनृत्य राई में एक ओर तीव्र शारीरिक चपलता, बेग, अंग, मुद्राए और समूहन के लयात्मक विन्यास है, वहीं दूसरी ओर नृत्य के लास्य का समावेश और लोक कविता के रूप में उद्याम श्रृंगार परक अर्थो की नियोजना। उसमें ऊर्जा, शक्ति और लालित्य एकमेक है। इस नृत्य को बुन्देलखण्ड में मंचीय नृत्य की स्थिति मात्र में सीमित नहीं किया गया है बल्कि सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चे के जन्म के समय और विवाह के अवसर पर राई नृत्य का आयोजन प्रतिष्ठा मूलक माना जाता है।

    अनेक बार किसी अभीप्सित कार्य की पूर्ति होने या मनौती होने पर भी राई के आयोजन किये जाते हैं। प्रस्तुति के दौरान कलाकारो ने राई गीत, सावन गीत, गारी, कर्तिक गीतों की प्रस्तुति दी। इसी क्रम में अगली प्रस्तुति हरिराम पटेरिया एवं साथी, बड़ा मलहरा छतरपुर द्वारा ‘बुन्देली संस्कार गीत‘ की प्रस्तुति दी गई। गतिविधि की शुरूआत हरिराम पटेरिया एवं साथियां द्वारा बुन्देली संस्कार गीत से की गई।

    प्रस्तुति के दौरान कलाकारों ने देवीगीत, बुन्देली महिमा, पर्यावरण गीत, लमटेरा, लोकशैली गीत की प्रस्तुति दी। मंच पर प्रस्तुति के दौरान हरिराम पटेरिया, रोशनी अहिरवार, मानसी, कमल राजपूत, कैलाश खरे, नन्नू लाल, हनमत यादव, बद्री शर्मा, विनय पटेरिया कलाकारों ने संगत की। अंतिम प्रस्तुति सुश्री महिमा जैन एवं साथी कलाकारों द्वारा बधाई लोकनृत्य से की गई।

    बुन्देलखण्ड अंचल में जन्म विवाह और तीज-त्यौहारों पर बधाई नृत्य किया जाता है। मनौती पूरी हो जाने पर देवी-देवताओं के द्वार पर बधाई नृत्य होता है। इस नृत्य में स्त्रियाँ और पुरूष दोनों ही उमंग से भरकर नृत्य करते हैं। बूढ़ी स्त्रियाँ कुटुम्ब में नाती-पोतों के जन्म पर अपने वंश की वृद्घि के हर्ष से भरकर घर के आंगन में बधाई नाचने लगते हैं।

    नेग-न्यौछावर बांटती हैं। मंच पर जब बधाई नृत्य समूह के रूप में प्रस्तुत होता है, तो इसमें गीत भी गाये जाते हैं। बधाई के नर्तक, चेहरे के उल्लास, पद संचालन, देह की लचक और रंगारंग वेशभषा से दर्शकों का मन मोह लेते हैं। इस नृत्य में ढपला, टिमकी, रमतूला और बांसुरी आदि वाद्य प्रयुक्त होते हैं।

    गतिविधि अन्तर्गत दिनांक 21 जनवरी 2024 को सुश्री सरोज अहिरवार एवं साथी छतरपर द्वारा बुन्देली संस्कार गीत एवं हरिकिशोर सेन साथी निमाड़ी द्वारा बुन्देली राई गीत एवं प्रदीप सेन छतरपुर द्वारा मलखम एवं श्री रविदास गंगापारी, राजगढ़ मालवा कबीर गायन की प्रस्तुती दी जायेगी।

  • जन संपर्क न्यूज़

    मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री राजन ने इंदौर में मतगणना स्थल का किया निरीक्षण

    मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी (मध्यप्रदेश) श्री अनुपम राजन ने आज इंदौर के नेहरू स्टेडियम में बनाए गए मतगणना स्थल का निरीक्षण…

    मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री राजन ने देवास में मतगणना स्थल का किया निरीक्षण

    मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी (मध्य प्रदेश) श्री अनुपम राजन ने 23 मई को देवास में "केन्‍द्रीय विद्यालय बैंक नोट प्रेस" पहुँचकर…

    मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री राजन ने सीहोर में मतगणना स्थल और स्ट्रांग रूम का किया निरीक्षण

    मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी (मध्य प्रदेश) श्री अनुपम राजन ने आज सीहोर के शासकीय महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज पहुँचकर लोकसभा निर्वाचन-2024 के…

    Stay Connected

  • Related Posts

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Add New Playlist