Peptech Time

  • Download App from
    Follow us on
  • महाराज जी ने सन्त-भक्त-चरण-शरण महिमा का किया बखान

    महाराज जी ने सन्त-भक्त-चरण-शरण महिमा का किया बखान

    दमोह। श्रीमद्भागवत कथा के कथा व्यास आचार्य श्री हरे कृष्ण दास ब्रह्मचारी जी महाराज ने मंगलवार को कथा के चतुर्थ दिवस असाटी समाज संस्कार भवन में श्रीभागवत महापुराण के विभिन्न प्रसंगों को कहकर श्रोलावृन्द को आत्म विभोर कर दिया। आपने गजग्राह लीला से कहा कि जो महक की शरण लेता है, उसका कल्याण श्रीहरि पहले करते हैं. जैसे गज के द्वारा सर्वशक्तिमान को अपनी रक्षा के लिये पुकारा तो, श्रीबर ने पहले ग्रात का उध्दार किया. फिर गज का अत: होते श्रीहरे के विशुद्ध भक्त का चरणाश्रय लेकर भजन करना चाहिये। वामन अवतार से आपने कहा कि राजाबाल के यज्ञ में पधारकर बलि से 3 पग भूमि की याचना की। बलि ने तीन पग भूमि देने का संकल्प किया,श्री वामन भगवान ने एक पग में पृथ्वी सहित ब्रह्मलोक तक के सात लोक एवं एक पग में नीचे के सात लोक पाताल आदि नापकर बलि को बंदी बना लिया, ली सरे पग नापने की जगह न होने पर बलि ने अपने मस्तक पर तीसरा पग रखने को श्रीवामन जी से कहा। कहते हैं दो पग में चौदह लोक नाप लेने वाले श्रीहरि का तीसरा पग बलि के मस्तक को नहीं नाप सका.यह बलि का समर्पण भाव है, जिसने श्रीधर को भी अपने वश में कर लिया.आपने कहा कि मनुष्य को श्रीसद्गुरु की चरण-शरण लेने से उसके समस्त मनोरथ पूर्ण हो जाते हैं।

  • Shri Sai Lotus City, Satna (M.P.)

    Peptech Town, Chhatarpur (M.P.)​

  • Related Posts

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Add New Playlist