Peptech Time

  • Download App from
    Follow us on
  • भक्ति मार्ग से कम होता है कष्ट का प्रभाव: पं. इन्द्रेश उपाध्याय

    भक्ति मार्ग से कम होता है कष्ट का प्रभाव: पं. इन्द्रेश उपाध्याय

    छतरपुर। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त करने वाले सिद्ध क्षेत्र बागेश्वर धाम में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के द्वितीय दिवस कथा व्यास पं. इन्द्रेश उपाध्याय ने कहा कि भागवत जी ऐसी श्रंगार सामग्री हैं जिसे देखकर ठाकुर जी रीझ जाते हैं। भक्ति मार्ग में जाने पर कई बाधाएं आती हैं लेकिन जो भक्ति मार्ग में जाता है उसके कष्ट का प्रभाव कम हो जाता है। इस अवसर पर वृंदावन धाम से आए मदनमोहन दास जी, गंगादास जी महाराज, कथा प्रवक्ता चतुरनारायण मिश्र, विनोद चतुर्वेदी विशेष रूप से उपस्थित हुए।
    रोज की तरह श्रीमद् भागवत महापुराण की आरती के साथ कथा का प्रारंभ हुआ। कथाव्यास श्री उपाध्याय ने भक्तमाल जी की जयंती की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि यदि गुरू का आशीष साथ है तो इससे भजन मार्ग प्रशस्त होता है। स्वयं की सतर्कता से भजन में गति मिलती है। श्रीमद् भागवत कथा जीवन रूपी मार्ग से पार जाने के लिए पथ प्रदर्शक है। जिसके चित्त में दूसरे के सुख से दुखी होने का भाव है वह भागवत सुनने का अधिकारी नहीं है। भागवत जी भगवान श्रीकृष्ण का प्रिय बना देती है। भागवत कथा औषधि के रूप में है जिसे सुनना नहीं पान करना पड़ता है। आरती में डिप्टी जर्नल की पत्नि झांसी से आयीं स्मिता रंजन, नौगांव छावनी के कर्नल विक्रम पनेरी, झांसी के मेजर आशुतोष कुमार के अलावा शहीद राकेश शर्मा, कप्तान सिंह, हरेन्द्र सिंह, गोपाल बाबू, गिरजेश कुमार, अजय कुमार शर्मा, ओमप्रकाश सिंह, राधेश्याम, अभय कुमार, कौशल कुमार, विजय कुमार, सुरेन्द्र कुमार, राजेश सिंह, विष्णु कुमार एवं शहीद पल्टूराम जी का परिवार शामिल हुआ।

  • जन संपर्क न्यूज़

    आदर्श आचरण संहिता के एक माह में 117 करोड़ से अधिक मूल्य की विभिन्न सामग्रियां जब्त

    मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री अनुपम राजन ने बताया है कि लोकसभा निर्वाचन-2024 की आदर्श आचरण संहिता प्रभावशील होने के बाद…

    Stay Connected

  • Related Posts

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Add New Playlist