Peptech Time

  • Download App from
    Follow us on
  • सतना में तीन मंजिला इमारत गिरी, एक की मौत

    मंजिला, सतना में तीन मंजिला इमारत गिरी, एक की मौत

    सतना(अंबिका केशरी)। सतना में मंगलवार रात करीब सवा 10 बजे एक तीन मंजिला इमारत गिर गई। मलबे में दबने से एक मजदूर की मौत हो गई। हादसे के वक्त बिल्डिंग में 8 लोग मौजूद थे। इनमें से 5 पहले ही बाहर निकल गए। दो को रेस्क्यू टीम ने निकाला। एक मजदूर मलबे में ही दबा रह गया था, जिसका शव 5 घंटे बाद करीब साढ़े 3 बजे निकाला जा सका। पुलिस के मुताबिक छत्तुमल सबनानी की बिहारी चौक स्थित इस तीन मंजिला बिल्डिंग में रेडीमेड कपड़ों की दुकान और साडिय़ों का शोरूम था। ऊपरी मंजिल पर रिनोवेशन का काम चल रहा था। इसी दौरान बिल्डिंग गिर गई। हादसे में दुकान मालिक, उसके दो बेटे, मिस्त्री और मजदूर घायल हो गए। सांसद गणेश सिंह, विधायक सिद्धार्थ कुशवाहा और महापौर योगेश ताम्रकार के साथ कई व्यापारी भी मौके पर पहुंचे।
    पुलिस ने बताया कि छत्तुमल सबनानी का बेटा नरेंद्र साबनानी उर्फ पिंकी पिछले कई दिनों से इस बिल्डिंग में तोडफ़ोड़ और रिनोवेशन का काम करा रहा था। मंगलवार रात 2 मिस्त्री और 3 मजदूर काम कर रहे थे। एक मिस्त्री दीवार जोड़ रहा था, जबकि दूसरा मिस्त्री एक मजदूर के साथ बीम काट रहा था। एक मजदूर सीढ़ी के पास काम कर रहा था। नरेंद्र भी अपने बेटों हितेश और नीतेश के साथ इस बिल्डिंग के पिछले हिस्से में मौजूद था। काम के दौरान तेज आवाज के साथ बिल्डिंग के आगे का हिस्सा स्लैब सहित भरभराकर गिर गया। हादसा होते ही नरेंद्र अपने दोनों बेटों के साथ पीछे से बाहर निकल गए। उनके साथ रामदेव नाम का मिस्त्री भी निकल गया। चारों बिना किसी से कुछ कहे सीधे जिला अस्पताल पहुंच गए। नरेंद्र ने हादसे की जानकारी न तो पुलिस प्रशासन को दी, न ही किसी और को। बिल्डिंग के गिरने से इलाके में हड़कंप मच गया। लोगों ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस और प्रशासनिक अफसरों के साथ एसडीईआरएफ की टीम पहुंची। नगर निगम की जेसीबी मंगवाई गई। रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हुआ। इसी बीच सोनू कोल नाम के मजदूर को मलबे से सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। सोनू खुद एम्बुलेंस में जाकर बैठ गया। भीषण हादसे के बाद भी उसे मामूली चोट आई है। उसके भीतर इतनी दहशत थी कि वह सिर्फ रोए जा रहा था। करीब 3 घंटे बाद छोटे नाम के मिस्त्री तक भी रेस्क्यू टीम पहुंच गई। वह बिल्डिंग के पिछले हिस्से में फंसा था। उसे बाहर निकाल कर अस्पताल भेजा गया। उसके पैर और कूल्हे में चोट आई है। छोटे ने बाहर निकलते ही उसके साथ काम कर रहे उसके बेटे बालेंद्र के बारे में पूछा। बालेंद्र के मोबाइल पर संपर्क किया गया। उसने बताया कि हादसे के वक्त वह बाहर खड़ा था। उसे भी चोट आई है। डर के कारण वह भाग गया। छत्तुमल के साथ अस्पताल पहुंचे मिस्त्री रामदेव ने एक मजदूर के मलबे में दबे होने की आशंका जताई। रेस्क्यू टीम उस लापता मजदूर ढूंढने में लगी रही। रात लगभग साढ़े 3 बजे मजदूर का शव मलबे में दबा मिला।

  • Shri Sai Lotus City, Satna (M.P.)

    Peptech Town, Chhatarpur (M.P.)​

  • Related Posts

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Add New Playlist