Peptech Time

  • Download App from
    Follow us on
  • चंद्रमा पर पानी और कहीं से नहीं ब‎ल्कि पृथ्वी से ही पहुंचा है, पढि़ए पूरी खबर

    चंद्रमा, चंद्रमा पर पानी और कहीं से नहीं ब‎ल्कि पृथ्वी से ही पहुंचा है, पढि़ए पूरी खबर

    नई दिल्ली। चंद्रमा पर पानी के होने के सबूत चंद्रयान-1 ने पहले ही दे ‎दिए थे, ले‎किन अब अमे‎रिकी वैज्ञा‎निकों ने खुलासा ‎किया है ‎कि चंद्रमा पर पानी और कहीं से नहीं ब‎ल्कि पृथ्वी से ही पहुंचा है। दरअसल आने वाले समय में चंद्रमा पर जाने वाले मानव अभियान के ‎लिए यह जानकारी होना बहुत ही जरूरी है कि वहां पानी किस रूप में, कितनी मात्रा में कहां कहां मौजूद है। इसके अलावा वहां पर पानी का स्रोत क्या है यानि पानी वहां कैसे आया। क्या उसका चंद्रमा पर ही कुछ पुरानी प्रक्रियाओं द्वारा निर्माण हुआ था या अब भी हो रहा है। सा

    ल 2008 में भारत के चंद्रयान 1 ने खुलासा किया था कि चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर पानी बर्फ के रूप में हैं। अब अमेरिकी अध्ययन ने उसी के आंकड़ों से खुलासा किया है कि यह पानी पृथ्वी की प्लाज्मा शीट की वजह से वहां पहुंचा है। चंद्रमा पर इंसानों को भेजने की कवायद पर तेजी से काम चल रहा है। नासा के आर्टिमिस अभियान के तहत चंद्रमा पर पानी की तलाश जोरों से हो रही है। इसलिए अमेरिका में चंद्रमा पर शोधकार्य भी खूब हो रहे हैं।

    प्लाज्मा शीट के उच्च ऊर्जा वाले इलेक्ट्रॉन चंद्रमा के मौसम को बहुत प्रभावित करते हैं

    नए अध्ययन में शोधकर्ताओं ने खुलासा किया है कि पृथ्वी की प्लाज्मा शीट के उच्च ऊर्जा वाले इलेक्ट्रॉन चंद्रमा के मौसम को बहुत प्रभावित करते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि पृथ्वी की यही प्रक्रिया ही चंद्रमा पर पानी के निर्माण की प्रक्रिया में बड़ी भूमिका निभा रही है। यह संबंध चंद्रमा पर उन इलाकों मे जहां सूर्य की किरणें नहीं पहुंच रही हैं, वहां बर्फीले पानी के होने पर काफी रोशनी डाल सकता है।

    इस पूरी प्रक्रिया में सूर्य की सौरपवनों के साथ पृथ्वी के मैग्नेटिक फील्ड की अंतरक्रिया से ही प्रक्रियाएं होती हैं। पृथ्वी के चारों ओर एक चुंबकीय बल का क्षेत्र होता है जिसे मैग्नेटोस्फियर कहते हैं जो पृथ्वी की अंतरिक्ष से आने वाले हानिकारक विकरणों से रक्षा करता है। सूर्य से आने वाली सौर पवनें जो कि आवेशित कणों की धाराएं होती है इस मैग्नेटोस्फियर को प्रभावित करते हैं। इससे पृथ्वी के रात वाले हिस्से में एक लंबी पूंछ जिसे मैग्नेटोटेल कहते हैं बनती है, जो वास्तव में एक प्लाज्मा शीट होती है।

  • जन संपर्क न्यूज़

    मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने हार्टफुलनेस के वैश्विक आध्यात्मिक गाइड श्री कमलेश दाजी का किया अभिवादन

    मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने श्री रामचंद्र मिशन के अध्यक्ष तथा हार्टफुलनैस के वैश्विक आध्यात्मिक गाइड श्री कमलेश दाजी का…

    मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने रेडियो उद्घोषक श्री अमीन सयानी के निधन पर शोक व्यक्त किया

    मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने सुप्रसिद्ध रेडियो उद्घोषक श्री अमीन सयानी के अवसान पर शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री डॉ.…

    सहायक विकास विस्तार अधिकारी के पद पर चयनित अभ्यर्थियों का दस्तावेज परीक्षण 24 तथा 25 फरवरी को

    कर्मचारी चयन मंडल द्वारा घोषित परिणाम के अनुपालन में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में सहायक विकास विस्तार अधिकारी के…

    स्वच्छ भारत मिशन में मध्यप्रदेश ने देश भर में श्रेष्ठता का परचम फहराया

    राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने अपने सार्वजनिक जीवन में स्वच्छता को हमेशा श्रेष्ठ स्थान पर रखा। महात्मा गांधी देश में आधुनिक…

    Stay Connected

    Shri Sai Lotus City, Satna (M.P.)

    Peptech Town, Chhatarpur (M.P.)​

  • Related Posts

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Add New Playlist